सोचें तो छूट सकती है धूम्रपान की लत

By  ,  दैनिक जागरण
Nov 11, 2010
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

धूम्रपान की लतअगर आप धूम्रपान के आदी हैं और इस लत से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो अपने दिमाग को इसके दुष्प्रभावों के बारे में प्रशिक्षित करना शुरू कर दें। येल यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का दावा है कि अपनी भावनाओं को नियंत्रण में करके और धूम्रपान के दीर्घकालिक दुष्परिणामों के बारे में सोचकर इस लत से छुटकारा पाया जा सकता है।



शोधकर्ताओं ने धूम्रपान करने वालों को सिगरेट और भोजन की तस्वीरों को दिखाया। फिर उनसे धूम्रपान के दीर्घकालिक दुष्परिणामों के बारे में सोचने को कहा। फंक्शनल मैग्नेटिक रेजोनेंस तकनीक की सहायता से शोधकर्ताओं ने उनके दिमाग की गतिविधियों को देखा। उन्होंने धूम्रपान करने वालों में खाने के बजाए सिगरेट पीने की तलब देखी। जब धूम्रपानकर्ताओं ने अपनी पसंदीदा चीजों की तलब को रोकने का प्रयास किया, तो भावनाओं को नियंत्रित करने वाला दिमाग का हिस्सा सक्रिय हो गया, जबकि तलब वाला हिस्सा शांत रहा।


'लाइवसाइंस' ने येल स्कूल ऑफ मेडिसिन के प्रमुख शोधकर्ता हेडी कोबर के हवाले से कहा, 'धूम्रपानकर्ता अपनी इस लत को छोड़ सकते हैं, बस उन्हें इस बारे में बताने की जरूरत है।'



कोलंबिया यूनिवर्सिटी में मनोचिकित्सक और सह शोधकर्ता केविन ओशनर ने कहा, कई लोग मानते हैं कि सिगरेट की लत से छुटकारा नहीं पाया जा सकता। इस कारण वे इस आदत को छोड़ पाने में असमर्थ होते हैं। अगर इंसान दृढ़ निश्चय कर ले, तो धूम्रपान की लत को नियंत्रित किया जा सकता है। शोध के यह परिणाम नेशनल एकेडमी ऑफ साइंस में प्रकाशित हुए हैं।

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES3 Votes 11819 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर