संबंधों में विश्वास जताने के तरीके

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 05, 2013
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

sambandho me vishwas jataane ke tareeke

संबंध नाजुक डोर की तरह होते हैं। संबंधों में विश्वास नहीं होता तो कई प्रकार की गलतफहमियां शुरू हो जाती हैं। जिंदगी की उलझनों से बचने के लिए विश्वास का होना बहुत जरूरी है। संबंधों में विश्वास की वजह से रिश्तो की डोर में हमेशा मिठास बनी रहती  है।

 

एक बार आपके साथी में आपकी विश्वसनीयता बन गई तो फिर किसी भी बात को समझने और समझाने में दिक्कत नहीं होती है। विश्वास ही सारी गलफहमी को दूर करता है। जिदंगी की गाड़ी को दूर तक खींचने के लिए जरूरी है कि आपके माता-पिता, घरवाले, रिश्तेदार, दोस्त आप पर विश्वास करें। विश्वास बनाने के बाद विश्वास को कायम रखना भी जरूरी होता है। आइए हम आपको बताते हैं कि किस तरह से संबंधों में विश्वास जताया जा सकता है।

 

[इसे भी पढ़ें : जब रिश्‍तों में न रहे ताजगी]

संबंधों में विश्वास जताने के तरीके –


झूठ का सहारा मत लीजिए –

संबंधों में दरार तभी पडती है जब उसमें झूठ का तडका लगता है। हमेशा कोशिश करनी चाहिए कि आप अपने साथी से किसी भी प्रकार का झूठ न बोलें। अक्सर आप द्वारा बोला गया झूठ जब दूसरे से सच के रूप मे सामने आता है तब साथी को ज्यादा दुख होता है। इसलिए बेहतर संबंध बनाने के लिए सच ही बोलना चाहिए।


बातों को छुपाएं नहीं –

रिश्ते को बेहतर करने के लिए यह बहुत जरूरी है कि साथी से कोई भी बात न छुपाएं। आप अपने साथी से हर छोटी-बड़ी बातें शेयर कीजिए। अक्सर आपके द्वारा छुपाई गई कोई बात किसी दोस्त के मुंह से आपके साथी को मालूम होती है तब उसे दुख होता है। बातें छुपाने का असर यह होता है कि संबंध खराब होने लगते हैं। आप गलत भी नहीं हों फिर भी बातें छुपाने से साथी पर गहरा प्रभाव होता है।


उलझनों को सुलझाएं -

अगर आपके साथी को कोई दिक्कत या परेशानी है तो उसकी बातों को सुनकर उसे सुलझाने की कोशिश कीजिए। कई बार आपका साथी किसी परेशानी की वजह से तनाव में रहता है। जिसकी वजह से वह किसी पर विश्वास नहीं करना चाहता है। ऐसे में आप अपने साथी की उलझनों को सुलझाकर अपने संबंध बेहतर बना सकते हैं।

 

[इसे भी पढ़ें : पार‍स्‍परिक संबंधों को कैसे मधुर बनायें]

 

समय निकालें -

भागदौड की जिंदगी में समय सभी के लिए कीमती होता है। लेकिन अगर आपके पास इस व्यस्तता और उलझनों को सुनने के लिए कोई नहीं होगा तब आप डिप्रेशन में चले जाएंगें। इसलिए अपने साथी के लिए हमेशा समय निकालें जिससे कि आप एक-दूसरे की जरूरतों के बारे में जानें और जिससे जिंदगी जीने में आसानी होगी। अगर आप कभी व्यस्त हो तो और समय पर न पहुंच पाएं तो इसकी जानकारी अपने पार्टनर को देनी चाहिए। क्योंकि अक्सर आपका साथी आपके लिए समय का पाबंद होता है।


विश्वास बनाएं रखें –

विश्वास की कमी भी संबंधों के टूटने का एक प्रमुख कारण बनती है। प्यार और संबंध का दूसरा नाम ही विश्वास होता है। जहां विश्वास नहीं है वहां पर रिश्ते टिक नहीं पाते हैं। आप गलत न भी हों, पर जीवनसाथी से बातें छिपाना उसके विश्वास को तोडने जैसा ही होता है। आपके किसी व्यवहार की वजह से पार्टनर का संदेह करना, कुछ बातें अनकही रह जाना, गलतफहमियो को दूर न करना आदि बातें अविश्वास को जन्म देती हैं।


पसंद और नापसंद का ध्यान रखें -

साथी की पसंद का ध्यान रखने से विश्वास और बढता है। इसलिए कोशिश यह होनी चाहिए कि अपने साथी के पसंद के हिसाब से काम कीजिए। ऐसी बाते और व्यवहार को करने से बचें जिसे आपका साथी पसंद ना करता हो।



समय की कमी और व्यस्तता के बीच विश्वास से ही रिश्ते बने रहते हैं और अगर आपका साथी आप पर विश्वास नहीं रखता है तो रिश्ता कुछ दिनों बाद या तो टूट जाता है या फिर समाप्त हो जाता है। इसलिए बेहतर रिश्ते के लिए विश्वास होना बहुत जरूरी है।

 

Read More Articles on Intimacy in Relationship in Hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES30 Votes 46392 Views 1 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर