शुगर की जांच खुद करने में है खतरा

By  ,  दैनिक जागरण
Jul 22, 2010
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

 शुगर की जांचडायबिटीज के मरीजों को खून में शर्करा के स्तर (ब्लड शुगर लेवल) पर लगातार नजर रखने के लिए कहा जाता है। इसलिए टाइप-2 डायबिटीज के कई मरीज घर पर खुद इसकी जांच कर लिया करते हैं। डाक्टर इसकी सलाह भी देते हैं। लेकिन अब एक नए शोध से पता चला है कि खुद ब्लड शुगर लेवल की जांच करना डायबिटीज के लिए तो फायदेमंद है, लेकिन इससे दूसरी समस्याएं पेश होने का खतरा बढ़ जाता है। यह समस्या मरीज के तनावग्रस्त होने के रूप में सामने आ सकती है।

 

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में प्रकाशित अध्ययन रिपोर्टो के मुताबिक नियमित रूप से खून में शर्करा का स्तर जांचने वाले टाइप-2 डायबिटीज के मरीजों में तनाव बढ़ने का खतरा ज्यादा पाया गया। गौरतलब है कि डायबिटीज के मरीजों में टाइप-2 डायबिटीज से पीडि़त लोगों की संख्या ही सबसे ज्यादा है। इस बीमारी में शरीर पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन का उत्पादन बंद कर देता है। नतीजा होता है कि शर्करा की पर्याप्त मात्रा ऊर्जा में नहीं बदल पाती।

ब्रिटिश अखबार 'द डेली टेलीग्राफ' में शुक्रवार को छपी रिपोर्ट के मुताबिक जो मरीज घर पर ही शर्करा के स्तर की जांच करते हैं, उनके बेचैनी और अवसाद की गिरफ्त में आने की आशंका उन मरीजों की तुलना में ज्यादा होती है जो घर पर यह जांच नहीं किया करते। एक अन्य शोध में कहा गया है कि नियमित जांच से भी इस स्थिति पर नियंत्रण नहीं पाया जा सकता।

 

यूनिवर्सिटी आफ यूल्स्टर के डा. मौरिस ओ'केन तथा उनके सहयोगियों ने एक साल तक किए गए शोध में पाया कि रक्त शर्करा के स्तर की नियमित जांच से हाइपोग्लाइकेमिया अटैक (वह स्थिति जब खून में शुगर का स्तर इस हद तक कम हो जाता है कि दिमाग की कार्यप्रणाली बाधित होने लगती है) की संख्या में कोई अंतर नहीं आता और खुद शर्करा स्तर जांचने वाले मरीज अपनी स्थिति में सुधार के बजाय अवसाद और बेचैनी के शिकार पाए गए।

 

Write a Review
Is it Helpful Article?YES15 Votes 14395 Views 2 Comments
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • Anubha10 Nov 2012

    very nice article

  • Anubha10 Nov 2012

    very nice article

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर