मोटी महिलाओं के बच्चों में आटिज्म का खतरा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 16, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Moti mahilao ke baccho me autism ka khatra

एक अध्ययन के अनुसार वह माताएं जो मोटी होती हैं, उनके शिशुओं में ऑटिज्म होने का खतरा ज्यादा होता है। यूएस डेविस माइंड इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने कैलिफोर्निया में 2 से 5 साल तक के 1000 बच्चों पर शोध किया। मांओं के मेडिकल रिकॉर्ड का मूल्यांकन करके मेडिकल शोधकर्ताओं ने पाया कि मोटापा और ऑटिज्म के बीच संबंध है।


अध्ययन ने यह दर्शाया कि ऐसी 70 प्रतिशत महिलाएं जो कि गर्भावस्था के दौरान मोटी होती हैं, वे सामान्य वजन की महिलाओं की तुलना में ऑटिज्म से ग्रस्त बच्चों को जन्म देती हैं। इसके अलावा, मोटी मांओं में ऑटिज्म का खतरा दोगुना हो जाता है। नवजात शिशुओं में केवल मोटापे की वजह से ही स्वास्‍थ्‍य समस्याएं नहीं होती हैं बल्कि कुछ अन्य तथ्य जैसे गेस्टेशनल डायबिटीज भी नवजातों की स्वास्‍थ्‍य स्थिति को प्रभावित करता है।


रिसर्च के अनुसार स्वस्थ माताओं की तुलना में गर्भावस्था के दौरान गेस्टेशनल डायबिटीज बढने की वजह से नवजात के विकास में 2 1/3 गुना अधिक देरी होती है। डायबिटीज से ग्रस्त माओं के नवजात भाषा और कम्यूनिकेशन में दूसरे आटिस्टि बच्चों की तुलना में ज्यादा दिक्कतों का सामना करते हैं। शोधकर्ताओं ने आंकडों के आधार पर यह निर्णय नहीं निकाला, बल्कि डायबिटीज माताओं के बच्चों में विकास में देरी का कारण तनाव के अनुपात को भी पाया।


मां के शरीर में सूजन और ब्लड शुगर ज्यादा होने से गर्भ में ही बच्चे के दिमाग के विकास को नुकसान पहुंचाता है, जो कि नवजात में ऑटिज्म का कारण होता है। इसके अलावा, यह बच्चे के मेटाबॉलिज्म को बदल देता है जिसकी वजह से बच्चे को अधिक आक्सीजन की आवश्यकता होती है। सीडीसी के आंकडों के अनुसार, 88 में से 1 बच्चे को ऑटिज्म की संभावना होती है।


कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के एपीडेमियोलॉजिस्ट पाउला क्राकोवेक ने रिसर्च पर टिप्पणी की कि ‘ हमने पाया कि मातृत्व की यह समस्याएं बच्चे के दिमाग के विकास के समय दिक्कत पैदा करती हैं जो कि गंभीर सार्वजनिक-स्वा‍स्‍थ्‍य समस्याओं को बढाती हैं।‘


यह अध्ययन बाल रोग के अंक में प्रकाशित हुआ जिसमें यह बताया गया कि गर्भावस्था के समय मोटापा के कारण मृत प्रसव, समय से पहले प्रसव और जन्म जात दोष होते हैं।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES11028 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर