मोटापा व स्ट्रोक का खतरा घटाता है जूस

By  ,  दैनिक जागरण
Jul 13, 2010
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

वाशिंगटन, एजेंसी : मोटापा, हार्ट अटैक या डायबिटीज से बचना हैं तो रोज फ्रूट जूस यानी फलों का रस पीना एक बेहतर विकल्प होगा। शर्त यह है कि जूस 100 फीसदी फलों के रस का हो।

 

एक्सपेरिमेंटल बायोलाजी 2009 की बैठक में पेश किए गए शोध में खुलासा किया गया है कि जो लोग 100 फीसदी शुद्ध फलों का रस पीते हैं वह न केवल स्लिम रहते हैं बल्कि उन्हें मोटापा व मोटाबालिक सिंड्रोम (उपापचयी सिंड्रोम) का खतरा कम रहता है। मिन्नेसोटा यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं डा.मार्क परेरा और सह लेखक डा विक्टर फुलगोनी ने 1999 से 2004 के बीच हुए नेशनल हेल्थ एंड न्यूट्रिशन एक्जामिनेशन सर्वे (एनएचएएनइएस) के आंकड़ों का अध्ययन कर पाया कि 100 फीसदी फलों का रस का पीने वाले लोगों का बाडी मास इंडेक्स अन्य की अपेक्षा 22 फीसदी कम होता है। उनकी कमर भी पतली होती है और उन्हें इंसुलिन संबंधी गड़बड़ी का खतरा भी कम होता है। डा.परेरा ने बताया कि अपने खाने में फलों व सब्जियों की भरपूर मात्रा शामिल कर कई बीमारियों से बचा जा सकता है। दिन भर में एक गिलास फलों का जूस लेना भी पर्याप्त होता है। 19 साल से अधिक उम्र के 14 हजार प्रतिभागियों पर किए गए सर्वे से यह भी पता चला कि फ्रूट जूस पीने वाले लोग अन्य की अपेक्षा ज्यादा सक्रिय होते हैं।

 

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES11319 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर