मुंह स्‍वास्‍थ्‍य और कैंसर

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 01, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

अगर आपको बता दिया गया है की आपको मुँह का कैंसर है तो फिर आप अपने इलाज के दौरान (रसायन चिकित्सा या रेडियोथेरेपी) अपने दांतों का पूरी तरह चेक अप करवाते रहें।  आपका डेंटिस्ट आपके दांतों की जांच करके, उसका अवलोकन करके, आपको सलाह देगा  कि आपको उसकी देखभाल कैसे करनी है।

 

कुछ ऐसे कदम जो आपके मौखिक स्वास्थ्य को बनाये रखने में मददगार साबित हो सकते हैं

  • रोजाना दो बार ब्रश किया करें एवं प्रतिदिन  फ्लोस भी करें। दिन में कम से कम एक बार नमक और बेकिंग सोडा के सोल्यूसन से कुल्ला जरूर करें।
  • संतुलित आहार खाएं।  अगर आपके मुँह में जख्म या दर्द है तो आपको तीखा, मसालेदार या कठोर चीजें नहीं खानी चाहिए।
  • मुलायम एवं नम खाद्य पदार्थ खाएं। एक बार आपने भर पेट खाना खा लिया तो फिर दुबारा खाना खाने के पहले हर वक़्त कुछ न कुछ न खाते रहें।  साथ हीं साथ शराब और तम्बाकू   के सेवन से बचें।
  • यदि आपका मुँह शुष्क लगता हो तो उसे नम रखने के लिए चीनी मुक्त गम या कैंडी चबाएं।

 

सिर और गर्दन का  विकिरण उपचार और आपका मुँह

 

मौखिक कैंसर के कई मरीजों को सर्जरी की आवश्यकता पड़ती है जिसके बाद रसायन चिकित्सा और विकिरण से उपचार जारी रखा जाता है।  अपने डेंटिस्ट को अपने इलाज के बारे में सूचित करके रखें। बेहतर होगा आप ऐसे डेंटिस्ट से अपना इलाज करवाएं जिसे मौखिक कैंसर के इलाज और इसमें होने वाले थेरपी के बारे में जानकारी हो।

 

विकिरण चिकित्सा से सिर और गर्दन के भाग में कई समस्याएं पैदा हो जाती हैं।

 

आपके मुँह में जलन हो सकती है या मुँह शुष्क हो सकता है या कुछ भी खाद्य पदार्थ चबाने या खाने में तथा निगलने में तकलीफ हो सकती है अथवा आपके मुँह का स्वाद बदल सकता है।

 

इससे दांतों में छेद होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए जब आपका विकिरण चिकित्सा चल रहा हो तो यह बहुत हीं  जरूरी हो जाता है कि आप अपने दांतों, मसूड़ों, गले इत्यादि  की साफ सफाई का पूरा ख्याल रखें।

 

आपको विकिरण चिकत्सा के दौरान और बाद में क्या तकलीफें हो सकती हैं इस सम्बन्ध में आपको अपने डेंटिस्ट एवं ओंकोलोजिस्ट (कैंसर विशेषज्ञ ) से परामर्श लेनी चाहिए। अपने डेंटिस्ट से पूछें कि कैंसर के इलाज के दौरान आपको क्या-क्या सावधानियां बरतनी चाहिए या क्या करने से कैंसर के इलाज से होने वाले साईड  इफ्फेक्ट  से बचा जा सकता है या उसे कम किया जा सकता है।

 

आपका मुँह और कीमोथेरेपी

 

मौखिक कैंसर के कई मरीजों को सर्जरी की आवश्यकता पड़ती है जिसके बाद रसायन चिकित्सा और विकिरण से उपचार  जारी  रखा जाता है।  अपने डेंटिस्ट को अपने इलाज के बारे में सूचित करके रखें।  बेहतर होगा आप ऐसे डेंटिस्ट से अपना इलाज करवाएं जिसे मौखिक कैंसर के इलाज और इसमें होने वाले थेरपी के बारे में जानकारी हो।

 

कीमोथेरेपी से आपको कई तकलीफें हो सकती है जैसे

  • मुँह के श्लेष्मा झिल्ली में सूजन या जख्म; मुँह एवं मसूड़ों में पीड़ा।
  • मुँह में प्रणालीगत संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। अपने ओंकोलोजिस्ट या डेंटिस्ट से मिलकर जाने कि कीमोथेरपी के दौरान और उसके पश्चात आपको क्या क्या तकलीफें हो सकती हैं।

अपने डेंटिस्ट से जाने कि कीमोथेरपी उपचार के पहले या उसके बाद उससे होने वाले कुप्रभाव से बचने के लिए आपको क्या क्या सावधानियां बरतनी चाहिए।

 

मौखिक कैंसर के उपचार में आने वाली जटिलताएं

 

कई मरीज, जिनके कैंसर का उपचार चल रहा होता है, वे इस बात से अनजान रहते हैं कि कैंसर के इलाज का उनके दांतों, मसूड़ों, लार ग्रन्थियों  पर क्या कुप्रभाव पड़ेगा। ऐसे में जब इलाज के साईड  इफ्फेक्ट के चलते उनके मुँह में असह्य पीड़ा होगी तो वे एकाएक कैंसर का उपचार बंद कर सकते हैं। आपका डेंटिस्ट आपके दांतों की समीक्षा करके कैंसर के इलाज से होने वाले  साईड़ इफ्फेक्ट से आगाह कर  सकता है।

 

रेडियोथेरेपी और रसायन चिकित्सा द्वारा कैंसर के उपचार से कई मौखिक समस्याएं पैदा होती हैं जैसे

  • मुँह के श्लेष्म झिल्ली में  घाव  एवं मुँह में सूजन
  • मुँह के मसूड़ों में सूजन एवं पीड़ा
  • प्रणालीगत संक्रमण का खतरा
  • मुँह का सूखना (शुष्क मुँह)
  • दांत में छेद होने का खतरा
  • जीभ में छाले पड़...
Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES4 Votes 12605 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर