महिलाओं में क्षय रोग के लक्षण

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 22, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

तपेदिक किसी भी व्यक्ति को किसी भी उम्र में हो सकता हैं। फिर चाहे वह बच्चे हों या वृद्घ। लेकिन क्या आप जानते हैं महिलाओं में क्षय रोग होने के कई कारण है। इसमें महिलाओं का रहन-सहन और खानपान बहुत निर्भर करता है। लेकिन सवाल ये उठता है कि महिलाओं में क्षय रोग को पहचाना कैसे जाएं यानी महिलाओं में क्षय रोग के लक्षण क्या हैं। हालांकि तपेदिक के लक्षणों को पहचान पाना बहुत मुश्किल होता है क्योंकि टी.बी के लक्षण बहुत बाद में सामने आते हैं या फिर जब कोई खास तरह की समस्या बार-बार होने लगे तभी टी.बी के लक्षणों को पहचाना जा सकता है। लेकिन फिर भी कुछ ऐसे लक्षण होते हैं जिनसे पता लगा जा सकता है कि महिलाओं में क्षय रोग हो गया है। तो आइए जानें महिलाओं में क्षय रोग के लक्षणों के बारे में।



टी.बी के आम लक्षण और महिलाओं में क्षय रोग के लक्षण


  • खांसी होना- आमतौर पर टी.बी.से ग्रसित व्यक्ति को जरूरत से ज्यादा खांसी होती है, इतना ही नहीं खांसी की समस्या से पीडि़त व्यक्ति को कई बार खांसी के दौरान खून आने लगता है। और खांसी तीन सप्ताह से भी अधिक समय तक रहती है। हालांकि टी.बी के दौरान महिलाओं को भी खांसी होती है और इससे उनको सांस संबंधी समस्याएं भी होने लगती हैं।

  • बलगम में खून आना- टी.बी के लक्षणों में बलगम में बहुत अधिक खून आता है या फिर रह-रहकर बलगम आता है। यदि किसी महिला को खांसी के दौरान बहुत अधिक बलगम आ रहा है और बलगम में खून आने की भी शिकायत होती है तो महिला को तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए क्योंकि ये टी.बी.की समस्या हो सकती है।

  • अस्वस्थ जीवन शैली- जो महिलाएं ठीक समय पर ब्रेकफास्ट नहीं करतीं, ऐसी महिलाओं को टी.बी की शिकायत हो सकती है। ऐसी महिलाएं जल्दी ही टी.बी.के माइक्रोबैक्टीरियम टी.बी.नामक जीवाणु से ग्रसित हो सकती है। ऐसे में महिलाओं को बहुत अधिक थकावट महसूस होने लगती है और कभी-कभी काम करने का भी मन नहीं करता।

  • कमजोरी महसूस होना- जब महिलाओं को बहुत अधिक कमजोरी होने लगे या फिर शरीर में दर्द की समस्या होने लगे तो उनको टी.बी.की समस्या हो सकती है। क्योंकि कई बार महिलाएं टी.बी के जीवाणु से संक्रमित होती है लेकिन उनको टी.बी के अन्य लक्षण दिखाई नहीं देते, ऐसे में बेवजह शरीर में अत्यधिक कमजोरी होने पर डॉक्टर से तुरंत जांच करवानी चाहिए।

  • सर्दी-जुकाम का लंबे समय तक रहना- कई बार महिलाओं का इम्यून सिस्टम कमजोर होता है तो उनको लंबे समय तक सर्दी-जुकाम रहने लगता है। कई बार सर्दी-जुकाम टी.बी.के कारण भी हो जाता है। ऐसे में अधिक सर्दी-जुकाम होने या इससे सिर दर्द-चक्क‍र आने इत्यादि की समस्याए होने पर तुरंत डॉक्टर से टी.बी की जांच करवानी चाहिए।

  • बुखार होना- टी.बी. संक्रमित क्षेत्रों में रहने वाली महिलाओं या फिर बुखार से पीडि़त होना भी टी.बी.होने का संकेत हैं। यानी जब किसी महिला को बार-बार बुखार होने लगे और बुखार का पारा बहुत अधिक या बहुत कम होने लगे तो बुखार का बार-बार चढ़ना-उतरना भी टी.बी का लक्षण हो सकता है।

  • हड्डियों में दर्द होना- कई बार बढ़ती उम्र में हड्डियों में दर्द होने लगता है तो कई बार बिना किसी कारण जोड़ों में दर्द होने लगता है। जब कभी ऐसा हो तो टी.बी.की जांच करवानी चाहिए। क्योंकि हड्डियों में टी.बी.होने पर हड्डियां बहुत कमजोर हो जाती हैं और मांसपेशियों में दर्द होने लगता हैं।

  • हालांकि यह भी तथ्य उभर कर आएं हैं कि टी.बी.पुरूषों के मुकाबले महिलाओं को कम होता है। और युवा महिलाओं को उनके लाइफ स्टाइल के कारण टी.बी.का अधिक खतरा रहता है।
Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES6 Votes 15318 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर