बदलती जीवनशैली से बढ़ रहा है स्‍तन कैंसर का खतरा

By  ,  दैनिक जागरण
Mar 05, 2013
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

महिलाओं में स्तन कैंसर गंभीर समस्या है। अगर आप स्तन कैंसर की समस्या से जूझ रही हैं तो इसका अर्थ यह नहीं है कि इससे बचाव संभव नहीं है।

स्तन कैंसर

 

 

 

वे महिलाएं जो कामकाज के चक्‍कर में अपनी सेहत पर ध्‍यान देना भूल गई हैं, यह उन्हें सावधान करने वाली खबर है। नए अध्ययनों और आंकड़ों की मानें, तो बिंदास जीवनशली स्तन कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी को निमंत्रण दे सकती है।

 

[इसे भी पढ़ें : रक्त कैंसर जांच पर शोध]

 

'व‌र्ल्ड कैंसर रिसर्च फंड' [डब्ल्यूसीआरएफ] द्वारा जारी ताजा आंकड़ों में यह चौंकाने वाली बात कही गई है। इसमें स्पष्ट पर कहा गया है कि महिलाओं के पश्चिमी जीवनशली से प्रभावित होने और व्यायाम न करने की आदत से स्तन कैंसर के मामलों में लगातार इजाफा हुआ है।

 

[इसे भी पढ़ें : स्तन कैंसर के साथ जीवन]

 

वेबसाइट 'डेलीमेल डॉट को डॉट यूके' के अनुसार इस संस्था ने ब्रिटेन में स्तन कैंसर के आंकड़े पेश किए है। वर्ष 2008 में स्तन कैंसर के कुल एक लाख मामलों में लगभग 88 मामले ब्रिटेन के थे। इस मामले में बेल्जियम सबसे आगे रहा। यहां कैंसर के प्रति लाख मामलों में 109 मामले स्तन कैंसर के पाए गए। 100 मामलों के साथ फ्रांस दूसरे स्थान पर रहा। जबकि गरीबी की मार झेल रहे पूर्वी अफ्रीका में यह संख्या सिर्फ 19 थी।

 

[इसे भी पढ़ें : वायरस करेगा ब्रेस्‍ट कैंसर का खात्‍मा]

 

डब्ल्यूसीआरएफ के अनुसार स्तन कैंसर के मामलों के संदर्भ में अमीर और निर्धन देशों के बीच यह अंतर जीवनशली की वजह से है। विशेषज्ञों का मानना है कि अगर महिलाएं अपनी जीवनशली में सुधार लाएं और नियमित व्यायाम करे, तो स्तन कैंसर को काफी हद तक नियंत्रित किया जा सकता है।

 

 

 

Read More Articles on Cancer in hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES4 Votes 12425 Views 1 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर