बादाम के फायदे

By  ,  दैनिक जागरण
Sep 30, 2010
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

बादाम

लंदन, रायटर : परंपरागत फल और सब्जी से युक्त पौष्टिक भोजन में बादाम व अखरोट भी शामिल कर लिए जाएं तो इसका स्वास्थ्य पर काफी सकारात्मक असर पड़ता है।

 

स्पेन की यूनिवर्सिटी आफ रोविराई विरगिलि की जोर्डी सेल्स साल्वाडो और उनके सहयोगियों का कहना है कि नियमित रूप से बादाम या अखरोट का सेवन करने वाले लोगों का पाचन तंत्र अधिक उम्र में भी बेहतर बना रहता है। साथ ही यह मोटापा, कोलेस्ट्राल, हाई ब्लडप्रेशर और असामान्य ब्लड शूगर पर काबू पाने में कारगर है।

 

शोधकर्ताओं के मुताबिक बादाम में वसा और असंतृप्त वसा की प्रचुर मात्रा होती है। इस अध्ययन से उस अवधारणा की पुष्टि हुई है कि स्वास्थ्य के लिए हरी सब्जी, मछली और स्वास्थव‌र्द्धक वसा जैसे जैतून का तेल का सेवन रेड मीट और अल्कोहल के सेवन से बेहतर है। बादाम से डायबिटीज, अस्थमा और कई अन्य बीमारियों का खतरा भी काफी हद तक कम हो जाता है। शोधकर्ताओं ने अध्ययन में 55 से 80 साल के 1,224 लोगों को शामिल किया।

 

इन्हें दिल की बीमारी का खतरा काफी ज्यादा था। शोधकर्ताओं ने इन्हें कई समूहों में बांट दिया। एक समूह को कम वसा वाला भोजन लेने की सलाह दी गई। जबकि दूसरे को सामान्य वसा वाला पौष्टिक भोजन दिया गया। एक समूह को एक लीटर प्रति सप्ताह अतिरिक्त जैतून का तेल दिया गया। जबकि एक अन्य समूह के लोगों को नियमित रूप से तीस ग्राम बादाम, अखरोट खिलाया गया। शोध में शामिल दो तिहाई लोगों को मेटाबोलिक सिंड्रोम (हृदय से संबंधित बीमारियां और डायबिटीज) की समस्या थी।

 

एक साल बाद शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन लोगों ने नियमित रूप से बादाम या अखरोट का सेवन किया, उनमें 14 फीसदी लोगों को इन समस्याओं से मुक्ति मिल गई थी। जबकि जैतून का तेल लेने वालों में सिर्फ सात फीसदी लोगों को फायदा हुआ। वहीं कम वसा वाला भोजन लेने वालों में सिर्फ दो प्रतिशत लोगों को ही फायदा हुआ। बादाम में फाइबर, पोटैशियम, कैल्शियम, मैग्नेशियम व उच्च स्तर का अनसेचुरेटेड फैट पाया जाता है।

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES120 Votes 30744 Views 1 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर