फिट पुरूष

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 18, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

बहुत से लोगों में एक गलत धारणा बन गई हैं कि एक्सएल साइज मांसपेशियां अच्छे स्वास्थय की निशानी है। लेकिन यह धारणा पूरी तरह गलत है। दरअसल फिटनेस का सही अर्थ पूरे शरीर का स्वस्थ विकास होता है। एक दूबले –पतले स्फूर्ती से भरे शांत दिमाग वाला शरीर भी फिट माना जाता है । इसलिए शारीरिक व्यायाम के आलावा यह भी महत्वपूर्ण है कि ऐसा आहार लिया जाए जो पूरे तन और मन को स्वस्थ और स्फूर्तिदायक रखने में सक्ष्म हो ।

 

फिटनेस इन मेन

 

हदृय रोग, मोटापा, स्मरण शक्ति का हास, डायबिटीज, उच्चरक्तचाप, हदृयघात, कॉलोन कैंसर और तनाव से अपने आप को सुरक्षित रखने के लिए रोजाना नियमित रूप से एक्सरसाइज करने को ही काफी माना जाता है। जो व्यक्ति शारीरिक रूप से अधिक एक्टिव और फिट रहते है उन्हें हदृयघात का खतरा उन लागों के मुकाबले काफी कम रहता है जो शारीरिक रूप से कम सक्रिय और सुस्त होते है।

 

45 वर्ष से अधिक उम्र वाले व्यक्तियों में धुम्रपान या मधपान की आदत होती है उनमें मधुमेह या उच्च रक्तचाप की शिकायत अधिक होती है । जिन लोगों को कारडियोवसक्यूलर रोग की कोई आनुवांशिक बीमारी होती है उन लागों द्वारा नियमित तौर पर एक्सरसाइज करने से इन बीमारियों का खतरा 60 प्रतिशत तक कम हो जाता है। हलांकि इस बात का कोई ठोस माप अब तक नहीं किया गया है कि एक्सारसाइज से हृदयघात का खतरा कितना कम होता है लेकिन इतना तो तय है कि एक्सरसाइज करने से ढेर सारे शारीरिक लाभ होते है। जिसमें हृदयघात के खतरे को कम करने के साथ ही उच्च रक्तचाप को कम करने, कोलेस्ट्रोल के लेवल को कम करने और मोटापा कम करना भी शामिल है।

 

हृदयघात के खतरे को कम करने के लिए एक्सरसाइज के साथ ही आप अपने खान–पान के तौर–तरीके को भी बदले। धुम्रपान, मधपान का त्याग करे और भोजन में सेचूरेटेड फैट, अधिक मात्रा में नमक और फैटी डेयरी प्रोडक्ट का प्रयोग कम कर दे या बंद कर दे। इसके बदले में अपने भोजन में प्रचूर मात्रा में फल, हरी सब्जियां, साबूत अनाज और कम वसा वाले दुग्ध उत्पादों का सेवन करे।

 

मनुष्य जैसे–जैसे बूढ़ा होने लगता है उसके शरीर के रक्त में कोलेस्ट्रोल की मात्रा बढ़ने लगती है। शरीर में कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन जैसे खराब किस्म के कोलेस्ट्रोल की मात्रा धीरे–धीरे बढ़ने लगती है और उच्च घनत्व वाले लिपोप्रोटीन नामक अच्छे घनत्व वाले कोलेस्ट्रोल की मात्रा का धीरे–धीरे रक्त में क्षय होने लगता है। कम घनत्व और उच्च घनत्व वाले प्रोटीन दोनो के असंतुलन से हृदय रोग का जन्म होता है और जब ये अधिक मात्रा में रक्त के धमनी के नीचले सतह पर जमा होने लगता हैं तो मरीज को हृदयघात का खतरा पैदा हो जाता है। रक्त में निम्न घनत्व वाले कोलेस्ट्रोल के लेवल को कम करने के लिए भोजन में सेचूरेटेड फैट का प्रयोग कम करे और नियमित रूप से एक्सरसाइज करे । अध्ययन में पाया गया है कि निम्न घनत्व वाले लिपोप्रोटीन को कम करने से रक्त में उसके अनुपात में चार प्रतिशत उच्च घनत्व वाले लिपोप्रोटीन की वृद्धि होती है जो हृदयघात के खतरे को कम करने में काफी प्रभावशाली भूमिका निभाती है।

 

रक्त मे टरीगलिसिराइड नामक वसा के बढने से भी हृदयघात के खतरे काफी बढ जाते है। लेकिन सक्रिय रहने और नियमित रूप से व्यायाम करने वाला व्यक्ति रक्त में पाए जाने वाले इस हानिकारक वसा के लेवल को नियंत्रण में रख कर हृदयघात के खतरे को कम कर सकता है। उच्च रक्तचाप होने से भी हृदयरोग और हृदयघात का खतरा कई गुणा अधिक बढ जाता है। मनुष्य की आयु बढने के साथ ही उसके रक्तचाप का स्तर भी बढ़ने लगता है। लेकिन शारीरिक रूप से सक्रिय व्यक्ति अपने रक्तचाप के लेवल को भी नियंत्रण में रख सकता है। 

 

शरीर में अत्यधिक वसा जमा होने से टाइप–2 डायबिटीज रोग के होने का खतरा बना रहता है जो आजकल एक बहुत ही बड़ी समस्या के रूप में सामने आई है।  नियमित रूप से व्यायाम कर और खान–पान के उचित तौर–तरीकों का पालन कर मोटापे से दूर रहा जा सकता है। और साथ ही टाइप –2 डायबीटीज की बीमारी के खतरे को भी काफी हद तक कम किया जा सकता है।

 

सालाना कैंसर से होने वाली मौतों में कॉलोन के कैंसर के मरीजों की एक बहुत बड़ी संख्यां होती है। फाइबर युक्त और साबूत अनाज जैसे हेल्दी आहार लेकर और रेगुलर एक्सरसाइज करके कॉलोन में होने वाले कैंसर के खतरे को 30 से 40 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है।

 

रेगुलर एक्सरसाइज करने से मनुष्य के सेक्स करने की क्षमता मे भीं वृद्धि होती है और उसके पौरूष ग्रंथी को भी इससे काफी लाभ मिलता है। नियमित रूप से ए...

Write a Review
Is it Helpful Article?YES32 Votes 13851 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर