पारस्परिक संबंधों को कैसे मधुर बनायें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 16, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

paarasparik sambandho ko kaise madhur banaye

पारस्परिक संबंध लोगों के व्यवहार और बोलचाल से मधुर होते हैं। आपका जैसा व्यवहार होगा लोगों के साथ आपके पारस्परिक संबंध अच्छे होंगे। कुछ लोगों में यह कला प्राकृतिक होती है और कुछ समय और समाज के साथ इसको विकसित कर लेते हैं। पारस्परिक संबंधों को मधुर बनाने के लिए सकारात्मक सोच और मिलनसार होना बहुत जरूरी है। लेकिन अगर आप मिलनसार नहीं हैं और लोगों से अपने संबंध मधुर बनाना चाहते हैं, तो हम आपको बताते हैं कि किन बातों को अपनाकर आप दूसरों के साथ अपने संबंधों को विकसित कर सकते हैं।


पारस्परिक संबंधों को मधुर बनाने के तरीके -



बातों को सुनें –
दोस्तों, रिश्तेदारों, परिवार के लोगों और पार्टनर से आपके पारस्परिक संबंध मधुर तभी हो सकते हैं जब आप उनकी बातों को सुनेंगे। जबतक आप किसी की बात नहीं सुनेंगे तब तक आप उसके बारे में जान नहीं पाएंगे। इसलिए बेहतर संबंध बनाने का सबसे पहला कदम यही है कि आप लोगों की बातों को सुनकर उसी हिसाब से अपना व्यवहार कीजिए।



चेहरे का एक्सप्रेशन –
जब आप कहीं जाएं तो आपके चेहरे का एक्सप्रेशन अच्छा होना चाहिए। क्योंकि आपका चेहरा ही आपके मूड के बारे में बताता है। चेहरे पर थकावट या चिडचिडापन होगा तो लोगों को आपसे मिलने में कोई उत्साह नहीं होगा। पारस्परिक संबंध तभी बेहतर हो सकते हैं जब आप जोश और एनर्जी के साथ लोगों से मिलेंगे।



भावनाओं को व्यक्त करें -
संबंध को मधुर बनाने का सबसे बेहतर तरीका है भावनाओं को व्यक्त करना। लोगों से अपने विचारों को शेयर कीजिए और उसका फीडबैक भी पूछिए। इससे आपको मालूम होगा कि आप कितने व्यवहार कुशल हैं और आपकी बातों का लोगों पर कितना प्रभाव पडता है।



तारीफ करना न भूलें –
यदि आपके दोस्त, रिश्तेदार या पाटर्नर ने कोई अच्छा काम किया है तो उसकी तारीफ करना न भूलें। तारीफ करने से आपके दोस्त का उत्साह और बढेगा और आपके लिए वह हमेशा ही कुछ नया या बेहतर करने की कोशिश करेगा। इसके अलावा अपने साथी की तारीफ आप दूसरों के सामने भी कीजिए। दूसरों से आपकी बातें सुनकर आपके साथी का विश्वास आप पर बढेगा जिससे संबंध और गहरे होंगे।



रिश्ते की अहमियत को समझिए –

बेहतर संबंध बनाने के लिए रिश्तों की अहमियत समझना बहुत जरूरी है। दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ आपका व्यवहार अलग हो सकता है लेकिन घरवालों के साथ आप वही व्‍यवहार नहीं कर सकते हैं। बाहरवालों के साथ पारस्परिक  संबंध मधुर बनाने से पहले अपने घर में अपने संबंध मधुर बनाना चाहिए। अगर आपका घर में लोगों से व्यवहार अच्छा नहीं होगा तो और लोगों पर अच्छा प्रभाव नहीं डाल सकते हैं।



टहलने और घूमने जाएं -
अपने साथी या पार्टनर के साथ कहीं यात्रा पर जाइए। घरवालों का विश्वास जीतने के लिए उनको छुट्टियों में कहीं घुमाने ले जाइए। ट्रेवल पर जाने से आपपर परिवार वालों का विश्वास बढता है और रिश्तों में गहराई आती है। कई बार सुबह-सुबह टहलने से भी कई ऐसे लोग मिल जाते हैं जो आपके विचारों से सहमत होते हैं।



पारस्परिक संबंध तभी ज्यादा मधुर होंगें जब आप दूसरों की छोटी-छोटी बातों का ख्यालल रखेंगे। रिश्तों में कभी भी अपने ईगो को मत आने दीजिए। घर, दोस्त और आसपास के लोगों से संबंध अगर मधुर तो जिंदगी खुशहाल होगी और आपका जीवन तनावमुक्त रहेगा।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES18 Votes 44143 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर