ताकि संबंधों की आग न बुझे

By  ,  सखी
Dec 11, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

ताकि संबंधों की आग न बुझेभोपाल। लंबे समय तक प्यार की आग को जलाए रखने के लिए यह जानना जरूरी है कि आपकी नैतिकता, मूल्यों, लक्ष्यों और महत्वपूर्ण मुद्दों पर सोच में किस हद तक समानता है? जाहिर है, जितनी कम समानता होगी, उतनी ही संभावना बार-बार मतभेद की होगी, बशर्ते कि आप और आपका साथी विशेष रूप से लचीले व्यक्ति हों और तुरंत समझौता करने में भी दक्ष हों।

[इसे भी पढ़े- संबंधों में सेक्स का महत्व]

यकीनन, ऐसी सूरत में भी नोंक-झोंक होगी, क्योंकि मतभेद बहुत मजबूत संबंध का भी हिस्सा हैं, लेकिन अगर आप दोनों के बीच फासला कम है तो समझौता करने की कोशिशों में कठिनाइया कम आयेंगी। इसलिए या तो आप लचीले व समझौता करने वाले बनें या कोई अपने जैसा ही तलाशें।

80 प्रतिशत हिस्सा अपने साथी को दें। प्यार और विश्वास को कोई चीज इतना मजबूत नहीं बनाती, जितना कि अपने साथी का ख्याल करना और उसे अपने से ज्यादा हिस्सा देना। अगर आप दोनों ही ऐसा कर रहे हैं तो दोनों ही संतुष्ट रहेंगे और महसूस करेंगे कि उन्हें प्यार किया जा रहा है। यह सही है कि ऐसा समय भी आयेगा और आना भी चाहिए जब आप अपने आपको वरीयता देने की जरूरत महसूस करेंगे, लेकिन ऐसे वक्त कमी के साथ ही आने चाहिए।

[इसे भी पढ़े- संबंधों को रोचक कैसे बनायें]

अगर आप अपने साथी को प्राथमिकता देंगे तो वह भी इसी भावना को लौटाने के लिए प्रेरित होगा। प्यार देने से ही प्यार हासिल होता है। दुनिया में कोई आदमी परफेक्ट नहीं है और किसी भी व्यक्ति के बारे में आप सब कुछ पसन्द भी नहीं करेंगे। बदकिस्मती यह है कि बहुत से लोग यह सोचते हैं कि उन्हें अपने साथी की हर चीज पसन्द करनी चाहिए और इसलिए जब कोई चीज उन्हें पसन्द नहीं आती है, तो वह उसे सही करने या बदलने की कोशिश करने लगते हैं।

जब प्यार की बात हो, तो आप अच्छे के साथ बुरे को भी स्वीकार करना सीखें, क्योंकि संबंध की महान योजना में सकारात्मकता का पलड़ा नकारात्मकता से भारी ही होना चाहिए। प्यार में संतुलन इसी को कहते हैं।

वैवाहिक असंतुष्टि की जड़ें अक्सर व्यक्तिगत असंतुष्टि में होती हैं, जिनका संबंध काम, सफलता स्तर, स्वास्थ्य या वजन आदि से हो सकता है। अक्सर इन व्यक्तिगत खामियों का इल्जाम विवाह पर लगा दिया जाता है। बहुत से जोड़े जिन्होंने अपनी अप्रसन्न शादी को बरकरार रखने का फैसला किया, वह पाच वर्ष बाद प्रसन्न शादी का अनुभव करने लगे, हालाकि शादी में कोई परिवर्तन नहीं आया था। इसलिए अगर आप यह महसूस कर रहे हैं कि आपका संबंध आपको परेशान कर रहा है तो रूकें और देखें कि कहीं वास्तव में गलती आपकी ही तो नहीं है। यह जानना जरूरी है कि अप्रसन्नता की वजह क्या है, तभी समाधान भी संभव होता है।

[इसे भी पढ़े- सफल रिश्ते के 5 राज]

जब आप उसके साथ होते हैं, जिसे आप प्यार करते हैं तो इसका अर्थ है कि आप एक साथ किसी चीज का विकास कर रहे हैं। आपके जीवन-इतिहास में इस चीज का विकल्प नहीं है। कोई और उस चीज को गहराई से नहीं जान पायेगा, कभी भी। कौन आपकी खुशी व उदासी को इतनी पूर्णता से शेयर करेगा, आपके बच्चों को आपकी तरह ही प्यार करेगा और आपके परिवार की तमाम यादों को याद करेगा?

इन समानताओं को अक्सर जोड़े कम करके आकते हैं और जब वह चली जाती हैं, तो शिद्दत से उनकी कमी महसूस करते हैं। अपने जीवन-इतिहास के मूल्य को समझें, उसकी परवरिश करें और उसे थामें रखें, क्योंकि यह आनन्द का जबरदस्त स्त्रोत होगा आप दोनों के लिए। जो लोग अपने जीवन-इतिहास के मूल्य को नहीं समझते, वह लम्हों की गलतियों का सदियों तक पछतावा करते हैं। इसलिए शेयर करना सीखें और प्यार की आग को ईंधन देते रहें ताकि वह जीवनभर जलती रहे।

अपने आदर्श साथी को आकर्षित करने के तीन महत्वपूर्ण तरीके हैं-

जो गुजर गया, उसे जाने दो। आदर्श साथी को आकर्षित करने का और आदर्श संबंध के लिए रास्ता हमवार करने का पहला तरीका यह है कि पिछले संबंध के बोझ को उतार फेंको। पिछले संबंध के डर, दु:ख और विरोध को डरावने सपने की तरह भूलना ही बेहतर होता है।

पिछली गलतियों से सबक सीखो। अगर आपका पिछला संबंध सफल नहीं हुआ, तो उसके लिए कम से कम 50 प्रतिशत आप भी जिम्मेदार हैं। अगर आप उन गलतियों को नजरअंदाज करेंगे या सुधारेंगे नहीं तो आप नये संबंध को भी अलग ढंग से नहीं देख सकते। उसका नतीजा भी पिछले जैसा हो सकता है।

जरूरतों को खोजो। संबंध की गुणवत्ता और अपनी जरूरतों को पहचानने की क्षमता में सीधा ताल्लुक है। इसलिए ऐसा साथी तलाशें, जो आपकी दीर्घकालीन जरूरतों को पूरा व संतुष्ट कर सके।

 

Read More Article On- Sex relationship in hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES31 Votes 49530 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर