जीन की वजह से ज्यादा खाने लगते हैं मोटे लोग

By  ,  दैनिक जागरण
Dec 19, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

शरीर में बढ़ जाती है कैलोरी की मांग

 

एक अध्ययन से खुलासा हुआ है कि मोटे लोगों को ज्यादा भूख लगने की वजह आनुवांशिक है। मोटे लोगों का शरीर एक खास जीन से नियंत्रित होकर ज्यादा कैलोरी की मांग करने लगता है।

[इसे भी पढ़े : कुछ लोग ज्यादा क्यों खाते हैं]

एबरडीन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए इस अध्ययन के मुताबिक मोटे लोगों में ज्यादा भूख लगने की वजह एक खास जीन की कमी-बेशी है। जिन लोगों में यह जीन होता है, उन्हें ज्यादा भूख लगती है। जिनमें यह नहीं होता, उन्हें भूख कम लगती है।

[इसे भी पढ़े : मोटे लोगों के लिए वज़न घटाने के तरीके]


इस अध्ययन से जुड़े दल के मुखिया जान स्पीकमैन के हवाले से 'द डेली टेलीग्राफ' अखबार ने लिखा है, 'इस जीन के रूप में हमने लोगों में भूख ज्यादा लगने का पहला ठोस सबूत हासिल किया है। हमारे आंकड़े साबित करते हैं कि इस 'एफटीओ' जीन की वजह से ही लोग मोटे होते हैं और ज्यादा खाने लगते हैं।' उन्होंने कहा, 'जीन की वजह से ऐसा होने के कारण ही उनके लिए भूख पर काबू रखना मुश्किल होता है। मोटे लोगों में ज्यादा खाने की आदत का मतलब यह नहीं निकालना चाहिए कि वे लालसावश ऐसा करते हैं।'

[इसे भी पढ़े : बड़े कौर खाने से घटेगा वजन]

शोधकर्ता 21 से 60 साल की उम्र के 150 लोगों का अध्ययन करने के बाद इस नतीजे पर पहुंचे। शोधकर्ताओं ने इन लोगों के खाने-पीने पर सात दिन तक नजर रखी। अध्ययन के नतीजों से पता चला कि जिन लोगों में यह जीन था, उन्होंने अन्य लोगों की तुलना में खाने में हर दिन 120 से 290 कैलोरी ज्यादा ग्रहण की।

 

Read More Article on Weight-Management in hindi.

 

Write a Review
Is it Helpful Article?YES42509 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर