गरीबी में बच्चों का पालन-पोषण है अवसाद पैदा करने वाला

By  ,  दैनिक जागरण
Oct 05, 2010
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

अवसादग्रस्त माताएं कम समय के लिए कराती हैं स्तनपान


गरीब परिवारों में जन्म लेने वाले आधे से ज्यादा शिशुओं का पालन-पोषण उनकी अवसादग्रस्त माताएं करती हैं। अमेरिकी शोधकर्ताओं का कहना है कि बच्चों के विकास में इससे परेशानियां आती हैं।


समाचार पत्र 'द वाशिंगटन पोस्ट' ने 'अर्बन इंस्टीट्यूट' के शोधकर्ताओं के हवाले से बताया है कि गरीबी में जन्म लेने वाले नौ नवजातों में से एक की मां अवसादग्रस्त होती है और ऐसी माताएं अन्य माताओं की तुलना में शिशु को अल्प समय के लिए स्तनपान कराती हैं।


शोधकर्ता ओलिविया गोल्डन कहती हैं, 'ऐसी मां जो सुबह सोकर उठने के साथ ही बहुत दुखी होती है, वह अपने बच्चे की आवश्यकताओं की ज्यादा देख-रेख नहीं कर सकती।'


उन्होंने कहा, 'यदि वह अपने बच्चे से बात न कर सके, उसके साथ खेल न सके, उसे देखकर खुश न हो तो इसका असर बच्चे के विकास पर पड़ता है। मस्तिष्क विकास रिपोर्ट बताती है कि ये मातृत्व के ऐसे लक्षण हैं, जो बच्चों के सफल विकास के लिए जरूरी है।'


रिपोर्ट में कहा गया है कि गरीबी में गंभीर रूप से अवसादग्रस्त माताएं बच्चों को केवल चार महीने या उससे कम समय के लिए स्तनपान कराती हैं। 'अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स' के मुताबिक बच्चों को एक वर्ष तक स्तनपान कराया जाना चाहिए।

 

Write a Review
Is it Helpful Article?YES10648 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर